‘मैं नहीं, अमिताभ बच्‍चन मुझसे मिलकर हुए थे खुश’

अंबाला। साम-दाम, दंड, भेद नीतियों का जो एक साथ प्रयोग करता है वही खिलाड़ी शतरंज के खेल में बड़े से बड़े खिलाड़ी को मात दे सकता है। इसी नीति का इस्तेमाल करके शहमात के शतरंज के खेल में गुरु और शिष्य की आपसी भिड़ंत में पहली बार छह वर्षीय गूगल बॉय कौटिल्य ने अपने गुरु को मात दी। दरअसल हरियाणा प्रदेश के शतरंज के खेल में नंबर वन खिलाड़ी गूगल बॉय बृहस्पतिवार को अंबाला पहुंचे। इस दौरान सैकड़ों प्रतिभागियों के सामने कौटिल्य को पहली बार अपने ही गुरु को हराते देखा गया। वहीं, एक प्रश्न के जवाब में कौटिल्य ने कहा कि अमिताभ बच्चन मुझसे मिलकर बहुत खुश हुए थे।

अंबाला शहर सद्दोपुर स्थित एमएम यूनिवर्सिटी में शतरंज प्रतियोगिता में पधारे कौटिल्य ने पहला खेल अपने गुरु व हरियाणा चेस एसोसिएशन के महासचिव कुलदीप शर्मा के साथ खेला। इसमें कुटिल ने ऐसे दांव खेले की गुरुजी देखते रह गए और शिष्य ने कब मात दे दी उन्हें खुद इस बात का पता नहीं चला।

पंचकूला के सेक्टर-15 स्थित भवन विद्यालय की दूसरी कक्षा में पढऩे वाले कौटिल्य का पढऩे का समय सिर्फ आधा घंटा है। वह स्कूल में भी अपने-अपने दोस्तों के साथ अध्यापकों को भी इस खेल में मात दे सकता है। कौटिल्य के पिता सतीश शर्मा और माता सुमीत शर्मा ने पंचकूला एमडीसी सेक्टर पांच में गुगल ब्वॉय एकेडमी के नाम से शिक्षण संस्थान खोल रखा है। कौटिल्य का कहना है कि दिन हो या रात सिर्फ शतरंज का खेल ही उसके लिए महत्वपूर्ण है।

दुनिया के सबसे नंबर वन खिलाड़ी के साथ खेलने के प्रश्न का उत्तर देते हुए कौटिल्य ने कहा कि जब मैं उनकी उम्र का हो जाऊंगा तब तक दुनिया के सब नंबर वन खिलाड़ी बुड्ढे हो जाएंगे और मैं नौजवान अवस्था में किसी को हराऊंगा वह मुझे शोभा नहीं देगा। इसलिए मैं ऐसे खिलाडिय़ों से खेलना पंसद नहीं करता। अगर कोई जिद करेगा तो देखेंगे, लेकिन वह हारकर ही यहां से वापस जाएगा।

कौटिल्य ने बताया कि उसे इस खेल में पहली चाल चलना पापा ने सिखाया था इसके बाद तो जैसे किसी के समझाने की जरूरत ही नहीं पड़ी।

केबीसी में जीते थे लाखों रुपये

कौटिल्य अमिताभ बच्चन के कौन बनेगा करोड़पति में भी खेल चुका है। कौटिल्य का कहना है कि अमिताभ बच्च्न ने मुझे ले लगाया था न कि मैंने उन्हें। अमिताभ के साथ इस बच्चे ने शतरंज का खेल खेला था और कुछ ही मिनटों में उनके सब हाथी घोड़े अपनी पार्टी में मिला लिए थे। वहीं कौन बनेगा करोड़पति में भी कुटिल ने लाखों रुपये जीते थे।

दो प्रधानमंत्रियों से मिल चुका गूगल बॉय

कौटिल्य पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिल चुका है।

पसंदीदा खेल है शतरंज

गूगल बॉय ने कहा शतरंज उसका पसंदीदा खेल है और विश्व विजेता विश्वनाथ आनन्द को हराना चाहता है।

Comments are closed.