माँ ने पैदा किया गाने का जूनून :- सचिन वाल्मीकि

​लखीमपुर खीरी / सारेगामापा रनर अप रहे सचिन वाल्मीकि ने कहा कि माँ की प्रेरणा से वो संगीत के क्षेत्र में उतरे हैं वो जो कुछ आज हैं वो माँ बाप की बदौलत। सचिन आज रॉयल इनफील्ड शो रूम पर आयोजित सम्मान समारोह में पत्रकारों से रूबरू थे। सचिन ने कहा कि अभी सफर शुरू हुआ है। और सफर लम्बा और चुनौतीपूर्ण। पर मेहनत लगन के बल पर हर चुनौती को वो स्वीकार करेंगे। सचिन ने कहा की सात साल की उम्र से उन्होंने संगीत का रियाज शुरू कर दिया था। माँ ने गाने का जूनून पैदा कर दिया। पहला गाना माँ ने ‘ का करू सजनी आए न बालम’सिखाया। वहीँ से सफर शुरू हुआ। सारेगामा में जाने को वो अपने दोस्तों सुमित तिवारी और आकाश गुप्ता को श्रेय देते हैं। सुमित और आकाश के साथ ही वो पहला ऑडिशन देने लखनऊ गए थे। तीनों की दोस्ती भी गजब की है। दांत काटी रोटी है। सुमित कहते हैं सचिन नहीं जैसे मैं सेकेण्ड आया हूँ। सचिन अभी संगीतकार प्रीतम के साथ कांट्रेक्ट साइन कर चुके हैं। रोज चार घंटे रियाज करते हैं। आगे प्ले बैक सिंगर बनने की तमन्ना है। छोटे शहर से निकले सचिन कहते हैं अगर हुनर है तो कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। सचिन अपने सपनो की उड़ान पे हैं। रॉयल इनफील्ड की तरफ से 11हजार का प्रोत्साहन राशि विनायक मोटर्स के मालिक विवेक कपूर और उनकी माँ वीना कपूर ने दिया। सचिन ने कहा कि उन्हें हैवी बाइक्स चलाने का शौक है। सचिन ने 31 जुलाई को होने वाली शारदा नगर तक होने वाली बुलेट राइड में सम्मिलित होने पर भी सहमति दी।

Working as Journalist for Aaj Tak, Editor-in-chief of this news portal.
Mobile: +919415168477, +919839147020
Email: abhishek4aajtak@gmail.com

Comments are closed.