एसएसबी की गलत कार्यशैली से जनता में आक्रोश

तिकुनिया / अपनी वाहवाही या अपनी पीठ स्वयं थपथपाने के लिए बरामदगी की आड़ में सीमा पर तैनात एसएसबी का फर्जी बाड़े के रूप में कुरूप चेहरा सामने आया है। जिससे जनता में आक्रोश व्याप्त है । हुआ यूं कि गुरुवार की देर शाम एसएसबी बरसोला कला के उप निरीक्षक व प्रभारी कांति चंद ने अपने दल बल के साथ बरसोला कला निवासी सुशांत विश्वास को उसकी दुकान से एक थैले में रखे सामान के साथ दबोच लिया । एसएसबी थैले में एक किलोग्राम से अधिक चरस बरामद होने का दावा करते हुए आरोपी सुशांत विश्वास के विरुद्ध फर्द तैयार कर सुपुर्दगी के लिए तिकुनिया कोतवाली ले गई । तब तक देर शाम के करीब साढ़े आठ बज चुके थे। कोतवाली प्रभारी जयकरण सिंह भी एसएसबी की एक किलोग्राम चरस बरामद की पुष्टि करते हुए पूरा विवरण लिखा-पढ़ी के बाद दिए जाने की बात कर रहे थे । लेकिन इधर एसएसबी की कार्यवाही पर बरसोला कला के वासियों ने सवाल उठाते हुए सुशांत विश्वास को फर्जी बताए जाने का आरोप लगा दिया और काफी संख्या में देर रात्रि कोतवाली पहुंच गए। जिससे एसएसबी की हकीकत सामने आने लगी और खुद का कुरूप चेहरा सबके सामने आए उससे पहले ही एसएसबी बरसोला कला प्रभारी कांति चंद ने अपने कदम पीछे खींचते हुए चरस बरामद की तैयार की गई फर्जी फर्द कोतवाली पुलिस से वापस ले ली । इसके बाद कोतवाली पुलिस ने एसएसबी द्वारा सोपे गए बरसोला कला निवासी सुशांत विश्वास को अगले दिन निर्दोष मानते हुए छोड़ दिया। इधर गुरुवार की देर शाम तक चरस बरामद का मामला बता रहे एसएसबी बरसोला कला प्रभारी कांति चंद ने अगले दिन बताया कि सुशांत विश्वास को संदिग्ध परिस्थितियों में पकड़ा गया था लेकिन उसके पास से बरामद थेले में चरस नहीं बल्कि भांग जैसा कोई पदार्थ था इसलिए उसके विरुद्ध कोई मामला नहीं बनाया गया। एसएसबी द्वारा युवक को फर्जी फसाए जाने का मामला सामने आने से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है । इधर युवक को फर्जी फसाने के पीछे एसएसबी की क्या मंशा थी इसका पता नहीं चल सका।

Working as Journalist for Aaj Tak, Editor-in-chief of this news portal.
Mobile: +919415168477, +919839147020
Email: abhishek4aajtak@gmail.com

Comments are closed.