​योग से बेहतर करियर भी सम्भव :- मंगेश त्रिवेदी

नई दिल्ली / योग से न सिर्फ़ आपका शारीरिक स्वास्थ्य ठीक रहता है ,बल्कि आपका मानसिक स्वास्थ्य भी ठीक रहता है। तथा शरीर और मन की कार्य क्षमता में वृद्धि होती है । इसीलिए आजकल निजी तथा सरकारी दोनो  क्षेत्रों में  योग शिक्षकों की माँग लगातार बढ़ती जा रही  है । प्रसिद्ध योग गुरु मंगेश त्रिवेदी बताते है  की आजकल योग से बेहतर करियर का भी निर्माण किया जा सकता है । योग शिक्षक बनने के लिए ज़रूरी है कि आपको योग की पूरी समझ एवं जानकारी के साथ साथ शरीर  विज्ञान का ज्ञान हो ,अगर आप एक भी योगासन या प्राणायाम ग़लत तरीक़े से करेंगे या कराएँगे तो वह नयी परेशानी  को जन्म दे सकता है ।योग गुरु मंगेश का कहना  हैं कि स्कूल-कॉलेजों में योग इंस्ट्रक्टर बनने के अलावा, लेक्चरर, रीडर व प्रोफेसर बनने का ऑप्शंस भी होते है। हॉस्पिटल्स, एंप्लायीज ट्रेनिंग सेंटर्स आदि के अलावा योग इंस्ट्रक्टर के तौर पर विभिन्न निजी कंपनियां, होटलों, अस्पतालों में भी अपनी सेवा दे सकते हैं या खुद का योग सेंटर भी खोल सकते हैं। शुरुआती दौर में   करीब 15-20 हजार रुपये कमा सकते है। और आगे जाकर अपने बढ़ते हुए अनुभव और ज्ञान के आधार पर 2 लाख प्रतिमाह तक कमा सकते है । 

इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश राज्य सरकार तथा उत्तराखंड राज्य  सरकार ने प्राथमिक विद्यालय तथा इंटर कॉलेज में योग को एक विषय के रूप में पढ़ाने का विचार कर रही है तथा प्रत्येक केंद्रीय विद्यालय में एक योग शिक्षक की नियुक्ति अवश् होती  है ।जिससे काफ़ी लोगों को योग के माध्यम से रोज़गार की प्राप्ति होगी । परंतु इसके लिए आवश्यक है की आपने किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या किसी कॉलेज या विश्वविद्यालय से योग में डिप्लोमा या परास्नातक की शिक्षा प्राप्त की  हो ।  

वर्तमान में भारत में 30 से ज्यादा विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में योग विषय में स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम चलाए जाते हैं। किसी भी क्षेत्र के स्नातक योग से संबंधित पाठ्यक्रम में शामिल हो सकते

जिनमे से प्रमुख है 

योग कोर्स कराने वाले कुछ संस्थान

आप इन सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों से योग सीख सकते हैं.

और योग के माध्यम से रोज़गार प्राप्त कर सकते है ।
(1) मोरारजी देसाई नेशनल इस्टीट्यूट ऑफ योग, दिल्ली

(ग्रेजुएट करने के बाद यहां से 3 साल का बी. एससी योगा साइंस, 1 साल का डिप्लोमा और कुछ पार्ट टाइम योग के कोर्स किए जा सकते हैं)

www.yogamdniy.nic.in
(2) बिहार स्कूल ऑफ योगा, मुंगेर

(यहां से 4 महीने और 1 साल का कोर्स कर सकते हैं)

www.biharyoga.net/bihar-yoga-bharati/byb-courses
(3) भारतीय विद्या भवन, दिल्ली

(यहां से आप 6 महीने से लेकर 1 साल तक का कोर्स कर सकते हैं)

www.bvbdelhi.org/yoga.html
(4) अय्यंगर योग सेंटर, पुणे

(यहां से आप योग का प्रशिक्षण ले सकते हैं)

http://iyengaryogakshema.org/
(5) कैवल्यधाम योग इंस्टीट्यूट, पुणे

(यहां से सर्टिफिकेट कोर्स इन योग, पीजी डिप्लोमा इन योग एजुकेशन, पीजी डिप्लोमा इन योग थिरैपी, फाउंडेशन कोर्स इन योग, एडवांस योग टीचर्स ट्रैनिंग, बीए- योग फिलोस्फी, मास्टर क्लास फॉर योग टीचर्स का कोर्स किया जा सकता है.)

College


(6) स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान, बेंगलुरु

(यह डीम्ड यूनिवर्सिटी है. यहां से रेगुलर और डिस्टेंस योगा कोर्स कर सकते हैं. योग में बी.एससी, एम. एससी, पी. एच.डी. की डिग्री ले सकते हैं.)

www.svyasa.org
(7) इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ योगिक साइंस एंड रिसर्च

(यहां से योग में कई छोटे अंतराल के कोर्स से लेकर मास्टर डिग्री तक के कोर्स किए जा सकते हैं)

www.iiysar.co.in/
(8) देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार, उत्तराखंड

(यहां से आप योग मे बी.एससी से लेकर पी.एचडी तक के कोर्स कर सकते हैं)

www.dsvv.ac.in
(9) द योग इंस्टीट्यूट सांताक्रूज, मुंबई

(सन् 1918 में स्थापित इस योग संस्थान से योग की शिक्षा ली जा सकती है.)

Home


10- गुरूकुल कॉंगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार, उत्तराखंड

(यहां से योग में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स किए जा सकते हैं.

http://gkv.ac.in/diplomayoga-certificate
इसके अतिरिक्त आप दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से भी योग की शिक्षा प्राप्त कर सकते है ।

कुछ  प्रमुख विश्व विद्यालय जो दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से योग की शिक्षा प्रदान करते है ।

1 -जैन विश्व भारती विश्वविद्यालय, लाडनू ,राजस्थान 

2- उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय ,हल्द्वानी (नैनीताल), उत्तराखंड 

3-देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार, उत्तराखंड। लेखक योगगुरु मंगेश त्रिवेदी उच्च शिक्षा प्राप्त योग विशेषज्ञ है ।जो नियमित रूप दिल्ली में अनेक दूतावासों तथा अनेको निजी कम्पनीयो के पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों को योग के माध्यम   निरोग रहने के लिए योग क्लास लेते रहते है । इनके लेख नियमित रूप से अनेक पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते है तथा टेलिविज़न के विभिन्न निजी चैनल्ज़ पर इनके प्रोग्राम आते रहते है ।

Working as Journalist for Aaj Tak, Editor-in-chief of this news portal.
Mobile: +919415168477, +919839147020
Email: abhishek4aajtak@gmail.com

Comments are closed.