​राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 42591 वाद हुए निस्तारित

लखीमपुर खीरी / सिविल जज (व0प्र0) जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने बताया कि जनपद न्यायाधीश राजबीर सिंह की अध्यक्षता में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण लखीमपुर खीरी द्वारा दीवानी न्यायालय परिसर तथा जनपद की तहसील विधिक सेवा समितियांे द्वारा अपने अपने तहसील परिसर में 12 नवम्बर 2016 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया है। इस मौके पर विभिन्न न्यायिक अधिकारियों एवं राजस्व अधिकारियों द्वारा विभिन्न प्रकार के कुल 42591 वाद आपसी सुलह समझौते के आधार पर निस्तारित किये गये तथा निस्तारित 54 मोटर दुर्घटना प्रतिकर वादों में रूपया 1,19,02,000.00 बतौर प्रतिकर तथा निस्तारित दीवानी एवं उत्तराधिकार के वादांे में रूपया 1,86,80,710.00 पीडि़त व्यक्तियों को दिलाये गये एवं निस्तारित 6314 फौजदारी में रूपया 7,20,750.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। इस मौके पर जनपद न्यायाधीश के न्यायालय में 2,41,004.00 की राशि के दीवानी के 14 वाद, फौजदारी के 07 वादों में रूपया 4800.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ एवं मोटर दुर्घटना प्रतिकर 10 वाद सहित 35 वादों का निस्तारण किया गया। जिसमें निस्तारित मोटर दुर्घटना प्रतिकर के वाद में रूपया 25,29,000.00 बतौर प्रतिकर पीडि़त व्यक्तियों को दिलाया गया। 

विनोद कुमार अपर जिला जज प्रथम के न्यायालय में निस्तारित 24 वादों में रूपया 2701573.00 की राशि के दीवानी के 15 व फौजदारी का 01 एवं मोटर दुर्घटना प्रतिकर के निस्तारित 08 वाद में रूपया 9,00,000.00 पीडि़त व्यक्तियों को दिलाया गया। लालता प्रसाद अपर जिला जज द्वितीय के न्यायालय में निस्तारित 16 वादों में रूपया 1198965.00 की राशि के दीवानी के 04 वाद, फौजदारी के निस्तारित 06 वादों में रूपया 1000.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ एवं मोटर दुर्घटना प्रतिकर के निस्तारित 06 वाद मंे रूपया 11,24,000.00 बतौर प्रतिकर पीडि़त व्यक्तियों को दिलाया गया। हामिद उल्लाह प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय में वैवाहिक/भरण पोषण पति पत्नी के 60 वाद निस्तारित किये। मो0 अशरफ अंसारी अपर जिला जज तृतीय के न्यायालय में 14 वादों में से मोटर दुर्घटना के निस्तारित 11 वाद में रूपया 46,97,000.00 बतौर प्रतिकर पीडि़त व्यक्तियों को दिलाये जाने के साथ साथ फौजदारी के निस्तारित 01 वाद में रूपया 500 अर्थदण्ड वसूल हुआ एवं दीवानी के 02 वाद निस्तारित हुए। रामायण शर्मा विशेष न्यायाधीश के न्यायालय में निस्तारित 89 रूपया 986823.00 की राशि के दीवानी के 08 तथा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के 09 वाद एवं फौजदारी के 72 वाद निस्तारित हुए। बाबूराम अपर जिला जज चतुर्थ के न्यायालय में निस्तारित 09 वादों में से मोटर दुर्घटना प्रतिकर के निस्तारित 06 वादों में रूपया 15,80,000.00 प्रतिकर के रूप में पीडि़त व्यक्तियों के रूप दिलाये गये तथा दीवानी के 03 वाद निस्तारित हुए। श्रीमती नीलू मोद्या अपर जिला जज/एफटीसी के न्यायालय में निस्तारित 06 वादों में फौजदारी का 01 एवं दीवानी 05 वाद निस्तारित हुए।

नवनीत गिरि अपर जिला जज षष्टम के न्यायालय में निस्तारित 13 वादों में दीवानी के 08 वाद, फौजदारी का 01 वाद एवं मोटर दुर्घटना प्रतिकर के निस्तारित 04 वाद में रूपया 10,72,000.00 बतौर पीडि़त व्यक्तियों को दिलाये गये। श्रीमती अनामिका चौहान अपर जिला जज/न्यू एफटीसी के न्यायालय में निस्तारित 16 वादों में दीवानी के 07 एवं वैवाहिक/भरण पोषण के सम्बन्धी पति पत्नी 09 वाद निस्तारित हुए। डा0 दीनानाथ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय में निस्तारित 1779 फौजदारी वादों में रूपया 3,27,340.00 अर्थदण्ड वसूल किया गया। 

राहुल प्रकाश सिविल जज (व0प्र0) के न्यायालय में निस्तारित 49 वादों में दीवानी के 25 वाद रूपया 1,08,60,335.00 की राशि के उत्तराधिकार के 24 वाद निस्तारित हुए। राम अवतार प्रसाद अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 2009 वादों में रूपया 1,30,490.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। प्रदीप कुमार सिविल जज व0प्र0/एफटीसी के यहां निस्तारित 389 फौजदारी वादों में रूपया 60,050.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अतुल चौधरी सिविल जज (क0प्र0) के यहां निस्तारित 40 वादों में दीवानी के 19 वाद एवं रूपया 26,72,171.00 की राशि के उत्तराधिकार के 21 वाद निस्तारित हुए। मृत्युजय श्रीवास्तव न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय में निस्तारित 563 फौजदारी वादों में रूपया 56500.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। प्रमोद सिंह यादव अपर सिविल जज (क0प्र0) द्वितीय के न्यायालय में निस्तारित 1010 फौजदारी वादों में रूपया 1,08,105.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ तथा सुश्री नेहा गंगवार सिविल जज (क0प्र0)/एफटीसी के न्यायालय में निस्तारित 477 फौजदारी वादों में रूपया 28565.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ।

Working as Journalist for Aaj Tak, Editor-in-chief of this news portal.
Mobile: +919415168477, +919839147020
Email: [email protected]

Comments are closed.