पिंजरे में बांधी गई बकरी को खाने के चक्कर मे पिंजरे में कैद हुआ आदमखोर तेंदुआ, दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगल में किया आज़ाद

अभिषेक वर्मा,लखीमपुर खीरी / जिले में धौरहरा थाना क्षेत्र के बेलागढ़ी गांव में बीती रात वन विभाग द्वारा लगाए गए पिंजरे में एक बकरी को बांधकर रखा गया था जिसे खाने आया एक आदमखोर तेंदुआ पिंजरे में कैद हो गया । बेलागढ़ी गांव में पिछले 11 अक्टूबर को एक आदमखोर तेंदुए ने 12 साल के बच्चे के ऊपर हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया था । यह आदमखोर तेंदुआ धौरहरा थाना क्षेत्र के करीब 15 गांवों में पिछले 1 महीने से आतंक मचाए हुए था यह आदमखोर  तेंदुआ अभी तक कई मवेशियों को अपना निवाला भी बना चुका था । आदमखोर तेंदुए के हमले में हुई बालक की मौत के मामले में आक्रोशित ग्रामीणों ने वन विभाग के खिलाफ जमकर हंगामा करना शुरू किया था जिसके बाद वन विभाग की टीम ने इलाके में पिंजरे लगाकर तेंदुआ को कैद करने की कोशिश की थी । बीती रात करीब 11 बजे वन विभाग द्वारा लगाए गए गांव के बाहर पिंजरे में बांधकर रखी गई बकरी को खाने के चक्कर मे आदमखोर तेंदुआ कैद हो गया जिसे वन विभाग की टीम लेकर रेंज ऑफिस आई जहां से डॉक्टरों की टीम ने उसे पेट पाते हुए वन विभाग की टीम ने उसे दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगल में आजाद कर दिया
बाईट :- अनिल कुमार पटेल ( डीएफओ नार्थ खीरी वन प्रभाग ) यह बेलागढ़ी एक गांव है धौरहरा रेंज में जो बफर जोन दुधवा टाइगर रिजर्व के अंतर्गत आता है वहां पर 11 तारीख को एक बच्चे को तेंदुए ने मार दिया था उसके बाद ग्रामीणों में काफी आक्रोश था मौके पर पहुंचकर उसका मौका मुआयना किया गया देखा गया कि गांव से करीब 1 किलोमीटर के आसपास वह साइट थी जहां पर यह घटना हुई थी तो उस साइट पर हम लोगों ने लगातार उसी दिन से पिंजरा लगा रहे हैं लेकिन कल रात में यह सफलता मिली हम लोगों को और पिंजरा इस तरीके से लगाया जा रहा था कि बिल्कुल उसको लगे की ये नेचुरल प्राकृतिक वास है कोई आर्टिफिशियल चीज वहां पर नहीं लगी हुई अच्छे से इसको कैद किया गया कल हम लोग को सफलता मिली और यह में कैद हो गया है आज डॉक्टरों की टीम द्वारा उसका परीक्षण कराया जा रहा है और फिट होने पर उसे छोड़ दिया जाएगा ।

Working as Journalist for Aaj Tak, Editor-in-chief of this news portal.
Mobile: +919415168477, +919839147020
Email: [email protected]

Comments are closed.